language
Hindi

असफलता और भय देता है कुंडली में ग्रहण योग, जानिए उपाय

view5677 views
ज्योतिषविज्ञान में कुछ ऐसे महत्वपूर्ण शुभ और अशुभ योगों का उल्लेख है, जो यदि किसी जातक की जन्मकुण्डली में बनते हों तो उनका उस जातक विशेष के भाग्य पर गहरा प्रभाव होता है। ऐसे शुभ अथवा अशुभ योगों के प्रभाव के कारण व्यक्ति विशेष का जीवन या तो खुशहाली से भर जाता है अथवा वह संकटों से मारा मारा फिरता है। कालसर्प दोष, शकट योग, गजकेसरी योग, विषकन्या योग आदि बुरे प्रभावों से ओत-प्रोत योग हैं जो इंसान की जिंदगी को दूभर कर देते हैं। इन्हीं बुरे प्रभाव वाले योगों की भांति ग्रहण योग भी होता है। इस ग्रहण का भी इंसानी जीवन पर गहरा असर है। आज हम ग्रहण योग का जीवन पर होने वाले असर के बारे में चर्चा करेंगे।

ग्रहण योग बनने की स्थिति: 

जब जन्मकुण्डली में चंद्रमा या सूर्य राहु और केतु के प्रभावांतर्गत आते हैं यानि राहु-केतु का सूर्य-चंद्र से दृष्टि या युति संबंध बने तो निश्चित ही ग्रहण योग का सृजन हो जाता है।

ऐसे में एक शर्त ये है कि चंद्र-सूर्य तथा राहु-केतु स्थान-बलादि से अशुभ और पीड़ित हो रहे हों। यानि पूर्ण रूपेण ग्रहण योग के निर्माण के लिए इन ग्रहों का स्वयं अशुभ स्थानों का अधिपति होना या फिर उनका अशुभ ग्रहों एवं बलादि से कमजोर होना आवश्यक है। यदि किसी जातक की कुण्डली में शुभ स्थानों के अधिपति होकर चंद्र-सूर्य बैठे हों तथा राहु-केतु का उनके साथ संयोग हो रहा हो, तो ऐसी दशा में शुभ फल प्राप्त होते हैं नाकि अशुभ फल।

ग्रहण योग के परिणाम:

यदि ग्रहण योग निर्मित हुआ हो तो ऐसी स्थिति में जातक को शारीरिक-मानसिक पीड़ा, अपमान, अपनों से वैमनस्य, रोग, ऋण, शत्रु, कलंक तथा राजदण्ड आदि का सामना करना पड़ सकता है। जिन-जिन भावों को राहु-केतु देख रहे हों, वह भाव पीड़ित होकर अपने से संबंधित बुरा फल प्रदान करने लगते हैं।

ग्रहण योग से मुक्ति कैसे पाएं:

यदि किसी जातक की कुण्डली में ग्रहण योग अपना दुष्प्रभाव दिखाने लगा हो, तो ऐसे दशा में चंद्र-सूर्य की मजबूती के उपाय आजमाएं एवं राहु-केतु को शांत करने के उपाय अपनाएं। राहु-केतु को शांत बनाए रखने के लिए शिव व हनुमत आराधना एवं चंद्र के लिए श्वेत पदार्थों का उपयोग सहित मोती का दान और सूर्य की मजबूती के लिए सूर्य गायत्री मंत्र के जाप सहित गुरुजनों एवं वरिष्ठों का सत्कार करना अति आवश्यक है।
आपको यह आलेख कैसा लगा, अपनी टिप्पणी हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं
टिप्पणी