language
Hindi

ग्रहों से जानें अपना फ्रेंड, बॉयफ्रेंड और पति !

view913 views
मंगल बॉयफ्रेंड, बुध बेस्टफ्रेंड और बृहस्पति पति होता है ! मंगल किसी महिला की कुंडली मे उसके आत्मविश्वास, ऊर्जा या बॉयफ्रेंड का प्रतिनिधित्व करता है ! पर उस मंगल की ऊर्जा का इस्तेमाल वह स्वयं के विकास के लिये करता है ! इसलिए मंगल पति नही हो सकता और संबंध टूट जाता है ! बुध बेस्ट फ्रेंड है जिससे एक लड़की अपने सुखदुख शेयर करती है ! पर बुध में प्रपोज़ करने का वो गट्स नहीं है जो मंगल के पास है ! बुध में पुरुषत्व भी उतना नहीं है जो मंगल के पास है ! क्लास का सबसे अच्छा नोट्स बनाने वाला लड़का बुध है और टैटू वाला 6 पैक लड़का मंगल ! पर मंगल और बुध दोनों में हसबैंड मटेरियल नहीं होता इसलिये दोनों का एक लड़की से संबंध स्थायी हो ही नहीं सकता ! बृहस्पति जिम्मेदार है और मैच्योर है इसलिए वह पति की भूमिका में होता है ! पर यदि तीनों ग्रहों की भूमिकाएं बदल जाएं तो जैसा कि कई बार होता है यानि स्थितियां बदतर हो जाती हैं ! 

यदि किसी लड़की की कुंडली में बृहस्पति की जगह बुध पति की भूमिका में है तो फिर बेकार ! बुध को अपनी जिम्मेदारी का अहसास नहीं होगा ! गंभीर से गंभीर बात को वह हंसी में लेगा ! उसके काफी निर्णय बचपना वाले हो सकते हैं ! यदि मंगल पति की भूमिका में हो तो महिला का पति ना दिल का प्रयोग ज्यादा करेगा ना दिमाग का ! बल्कि उसके जीवन मे विवाह के बाद अन्य महिलाएं अवश्य होंगी ! घर में विवाद रोज़ होंगे ! इसलिए विवाह आजकल उसी महिला का चल रहा है जहाँ बृहस्पति पति की भूमिका में है ! उस लड़की का कोई बेस्ट फ्रेंड नहीं होगा जिसका बुध बहुत वीक और पीड़ित होगा, पर बॉयफ्रेंड होगा यदि उसकी कुंडली में  मंगल मजबूत होगा ! पर यदि उसका बृहस्पति पीड़ित हुआ तो विवाह तो होगा पर बाद में नरक बन जाएगी जिंदगी और संतान उत्पन्न होने में भी समस्या आएगी !

उपरोक्त विश्लेषण अंतिम नहीं है बल्कि इसकी मदद से एक सामान्य तरीके से समझाने का प्रयास किया गया है जो लोग अपनी कन्या संतानों की कुंडलियां देखकर विचार कर सकते हैं और बाद में ज्योतिषियों की मदद लेकर निर्णय ले सकते हैं ! मैंने पहले भी कहा है कि नक्षत्र चरणों के आधार पर हो रहे गुण मिलानों का कोई महत्व नहीं है नहीं तो 32 गुण मिलने पर भी शादियां 8 महीने भी नहीं चल पा रही हैं ! बुध, बृहस्पति और मंगल देखिए लड़के-लड़की का फिर 7, 8,12 वां भाव देखिए ! यदि दोनों 60 प्रतिशत समान हों या समान रूप से पीड़ित हों तो विवाह कर दीजिए ! बुध बृहस्पति से संबंध रखने की शिक्षा देना उचित है ! मंगल से बस आवश्यक संबंध ही उचित होगा !
आपको यह आलेख कैसा लगा, अपनी टिप्पणी हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं
टिप्पणी