language
Hindi

इस शनि अमावस्या पर पाएं दुर्भाग्य से हमेशा के लिए मुक्ति

view4200 views

शनि देव को न्याय का देवता कहा जाता है, ऐसी मान्यता है कि वह व्यक्ति को उसके कर्मों के आधार पर दंड देते हैं। समस्त ग्रहों में शनि ही एक ऐसे ग्रह हैं जो अपनी दशा में रंक को राजा और राजा को रंक बनाने की क्षमता रखते हैं।

सामान्यतौर पर शनि की साढ़ेसाती या ढैय्या को शुभ नहीं माना जाता, लेकिन जिन लोगों की कुंडली में शनि की स्थिति शुभ है उनके लिए परिणाम उलटे भी हो सकते हैं। सुखी और बाधा रहित जीवन के लिए शनि की शुभ स्थिति बहुत जरूरी है, जातक को हर वो कार्य करना चाहिए जिससे शनि देव को प्रसन्नता होती है। इनमें शनि पूजा और शनि पर तेल चढ़ाना शामिल है। लेकिन अगर किसी कारणवश आप स्वयं इनमें से कुछ नहीं कर पा रहे हैं तो एस्ट्रोस्पीक आपके लिए शनि अमावस्या के अवसर पर शनि देव को प्रसन्न करने का एक बेहतरीन अवसर लेकर आया है।

आप अपनी सुविधानुसार निम्नलिखित में से कोई भी पूजा अपने निमित्त करवाकर शनि देव का आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं।

 

पूजा से संबंधित सभी जानकारी आपको संबंधित लिंक्स पर उपलब्ध हो जाएगी:

 

शनि के  कष्टों से मुक्ति के लिए करें शनि महादान: 17 मार्च 2018


शनि सिंगणापुर में शनि दोष निवारण पूजा: 17 मार्च 2018


शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए शनि सिंगणापुर में करें तेलाभिषेकम: 17 मार्च 2018


शनि अमावस्या पर समूह शनि पूजा एवं तेलाभिषेक: 17 मार्च 2018


आपको यह आलेख कैसा लगा, अपनी टिप्पणी हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं
टिप्पणी