language
Hindi

बृहस्पति का वृश्चिक राशि में गोचर, जानिए राशि अनुसार प्रभाव

view908 views

 

ज्योतिषशास्त्र में बृहस्पति अति महत्वपूर्ण गृह है। इसका महत्व इसी बात से समझा जा सकता है कि हमारे जीवन में अच्छा-बुरा जो भी घटता है, उसमें बृहस्पति की सहमति होनी ज़रूरी है। अगर बृहस्पति की सहमति नहीं है तो न कुछ अच्छा होगा और न ही बुरा।

 

देवगुरु बृहस्पति एक राशि में पूरे एक वर्ष तक रहते हैं। एक साल के बाद ये अपनी राशि बदल लेते हैं। इसलिए मैं इसे बृहस्पति वर्ष कहता हूं। जब बृहस्पति अपनी राशि बदलते हैं तो हमारे कई रुके हुए काम हो जाते हैं और कई कार्यों में अड़चन आनी भी शुरू हो जाती है।

 

बाकी जितने भी वर्ष हैं, जैसे अंग्रेज़ी वर्ष जो एक जनवरी से शुरू होता है या देशी वर्ष जो मार्च के आसपास शुरू होता है या सूर्य वर्ष जो तब शुरू होता है जब सूर्य मेष राशि में प्रवेश करते हैं, इन सबका ज्योतिषीय दृष्टि से हमारे जीवन पर कोई खास प्रभाव नहीं पड़ता है। लेकिन बृहस्पति वर्ष का हमारे जीवन पर पूर्ण प्रभाव पड़ता है। इसलिए इस ओर विशेष ध्यान दिए जाने की ज़रूरत है।

 

इस साल बृहस्पति का गोचर 11 अक्टूबर को तुला राशि से वृश्चिक राशि में हो रहा है। उसके बाद पृथ्वी पर हर व्यक्ति के जीवन में बदलाव आना निश्चित है। बदलाव अच्छा या बुरा कुछ भी हो सकता है। हर व्यक्ति की कुंडली के आंकलन के बाद ही यह तय किया जा सकता है कि प्रभाव अच्छा होगा या बुरा।

 

मोटे तौर पर हर लग्न के लिए बृहस्पति के गोचर का प्रभाव क्या होगा, नीचे दिया जा रहा है। हालांकि पहले गोचर का असर चंद्र राशि से किया जाता रहा है लेकिन ये पाया गया है कि गोचर का आंकलन अगर लग्न से किया जाए तो वो ज़्यादा सटीक बैठता है। लग्न का आंकलन चंद्र राशि या सूर्य राशि से किए गए आंकलन से एकदम अलग है। हम यहां लग्न से आंकलन कर रहे हैं।

 

मेष

मेष लग्न में पैदा हुए लोगों के लिए अगला बृहस्पति वर्ष संघर्ष का होगा। ऐसे लोगों को इस साल खासी मेहनत करनी होगी। ऐसे जातकों के लिए दुर्घटना का भय भी बना रहेगा। जो जातक स्वास्थ्य की दृष्टि से अच्छे नहीं चल रहे हैं, उनके हालात बिगड़ने का अंदेशा है। जो जातक धार्मिक कार्यों में लगे हैं, उनका जी इस काम से उचाट हो सकता है। कई जातकों को पितृ कष्ट हो सकता है।

 

वृष

इस लग्न में पैदा हुए जातकों के लिए इस बार का बृहस्पति गोचर बेहद महत्वपूर्ण रहेगा। कुछ जातकों का व्यापार खूब चमकेगा और वो अच्छा पैसा कमाएंगे। लेकिन जिनका मंगल अच्छा नहीं हुआ, उन्हें भारी नुकसान होने का अंदेशा रहेगा। कुछ जातकों को स्वास्थ्य की समस्या का अंदेशा भी है। परिवार में झगड़े वगैरह बढ़ सकते हैं।

 

मिथुन

मिथुन लग्न में पैदा हुए जातकों को अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना चाहिए। यह वर्ष उनके स्वास्थ्य पर बुरा असर डाल सकता है। जिन लोगों को खून से या मधुमेह की शिकायत है, उनकी सेहत पर खासा बुरा असर पड़ सकता है। पेट की समस्याएं भी बढ़ सकती हैं। नौकरी के नज़रिए से ये साल अच्छा रहने की उम्मीद है। वेतन में इजाफा हो सकता है।

 

कर्क

कर्क लग्न वालों के लिए यह बृहस्पति वर्ष अच्छा नहीं है। नौकरी-काम धंधे पर आंच रहेगी। कई लोगों की नौकरी छूट भी सकती है। कुछ जातकों के काम के स्थान पर दिक्कतें बनी रहेंगी। नौकरी और काम धंधे को छोड़कर बाकी मुद्दों पर अच्छे समाचार मिलेंगे। बीमार जातकों के लिए यह राहत का वर्ष होगा। कई जातक धर्म की तरफ उन्मुख होंगे। खिलाड़ियों को सफलता मिलने की संभावना है।

 

सिंह

इस लग्न में पैदा हुए जातकों की वाहन खरीदने की इच्छा पूरी होगी। घर में सुंदर बनाना, नया निर्माण करवाना, नया फर्नीचर खरीदना आदि तमाम सुविधाएं प्राप्त होंगी। जो जातक नया घर खरीदना चाह रहे थे, उनकी इच्छा भी पूरी होगी। नौकरी-कामधंधे में भी सफलता मिलेगी। लेकिन प्रेम में पड़े जातकों को मुश्किल को निराशा का सामना करना पड़ सकता है। 

 

कन्या

 

इस लग्न का जातकों के लिए ये यात्रा का साल है। जो जातक विदेश जाना चाहते हैं, उनकी इच्छा पूर्ण होगी। पर्यटन में आनंद लेने वाले जातकों के लिए यह साल मौज का रहेगा। खूब घूमना-फिरना होगा। अगर आपका मंगल खराब हुआ तो इस साल छोटे भाई-बहन से संबंध खराब होंगे। जिन जातकों क सेहत खराब चल रही है, उनकी सेहत में अच्छा सुधार होने की उम्मीद है। बुरे हालात झेल रहे जातक हिम्मत से हालात का सामना करेंगे।

 

तुला

इस लग्न में पैदा हुए जातकों पर इस साल पैसे की बरसात होगी। साधन कोई भी हो, लेकिन धन आता रहेगा। लेकिन जिनका मंगल अच्छा नहीं हुआ, उनके लिए काम-धंधे में दिक्कतें आ सकती हैं। कुछ जातकों के स्वास्थ्य पर भी बुरा असर पड़ सकता है। कई जातकों के जीवनसाथी को भी स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं आ सकती हैं।

 

वृश्चिक

इस लग्न में पैदा हुए जातकों को धन का अभाव रहने की आशंका है। संचित किए हुए धन में से काफी धन इन्हें बेकार की समस्याओं पर खर्च करना पड़ सकता है। जो लोग राजनीति में हैं, उनके लिए भी यह साल अच्छा नहीं रहने वाला। जो विद्यार्थीं परीक्षाओं में बैठने वाले हैं, ये साल उनके लिए अच्छे फल दे, ऐसा नहीं लगता।

 

धनु

इस लग्न में पैदा हुए जातकों के लिए भी आने वाला बृहस्पति वर्ष न धन के हिसाब से अच्छा होगा, न सेहत के हिसाब से। स्वास्थ्य के नज़रिए से कई समस्याएं खड़ी हो सकती हैं। जिनकी सेहत पहले से खराब है, उनका स्वास्थ्य और खराब हो सकता है। फिजूल के खर्चे सिर पर आते रहेंगे। जो व्यवसायी अपने धंधे में बदलाव की सोच रहे हैं या अलग धंधा करने का प्रयास कर रहे हैं, उनकी कोशिशें सफल होंगी। कुछ जातकों के मान-सम्मान पर झटका लग सकता है। प्रेमी जोड़ों का झटका लग सकता है। बच्चों को लेकर जातकों को सचेत रहने की आवश्यकता है।

 

मकर

इस लग्न के लिए ये साल अच्छा होगा। ऐसे जातकों की ज़्यादातर इच्छाएं पूर्ण होंगी। प्रेम में सफलता मिलेगी। धन आता रहेगा। काम-धंधा आगे बढ़ेगा। नौकरी में प्रोन्नति मिलेगी। स्वास्थ्य बेहतर होगा। जो लोग बीमार चल रहे हैं, उनके स्वास्थ्य में सुधार होगा।


कुंभ

कुंभ लग्न के जातकों के कॅरियर के लिए ये साल अच्छा रहने वाला है। व्यवसाय में सकरात्मक हलचल बनी रहेगी। प्रोन्नति मिलेगी। कार्यालय में मान-सम्मान बढ़ेगा। वेतन में वृद्धि होगी। लेकिन जो लोग विदेश जाने का प्रयास कर रहे हैं, उन्हें दिक्कतें पेश आएंगी।


मीन

मीन लग्न में पैदा हुए जातकों के व्यवसाय में बदलाव आ सकता है। कई लोगों के क़रियर में भी दिक्कत आ सकती है। आध्यात्मिक व्यक्तियों के लिए यह साल फलदायक रहेगा। जो लोग सार्वजनिक जीवन में हैं या राजनीति में हैं, उनके लिए ये साल अच्छा साबित होगा।


 

दुनिया की पूरी आबादी 12 लग्नों में बंटी हुई है। हर व्यक्ति की कुंडली और हर कुंडली पर बृहस्पति के गोचर का असर अलग अलग होता है। ऊपर दी गई जानकारी मोटे तौर पर सही होती है। लेकिन यह हर जातक के लिए अलग अलग होती है। इसलिए आपका अगला साल कैसा जाएगा, इसे जानने के लिए बृहस्पति वर्ष कुंडली बेहद आवश्यक है।

आपको यह आलेख कैसा लगा, अपनी टिप्पणी हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं
टिप्पणी