language
Hindi
गंगा दशहरा के दिन हरिद्वार में नवग्रह पूजा, गंगा आरती, दीप दान और प्रसाद का चढ़ावा: 24 मई, 2018

गंगा दशहरा के दिन हरिद्वार में नवग्रह पूजा, गंगा आरती, दीप दान और प्रसाद का चढ़ावा: 24 मई, 2018

sold19 लोगों ने इसे खरीदा

देवी गंगा को हिन्दू पुराणों में मां पार्वती की बहन कहा गया है। सूयवंशी राजा भागीरथ अथक प्रयास के बाद स्वर्ग में रहने वाली गंगा को धरती पर लाने में सफल रहे थे, उस दिन को ही गंगा दशहरा के तौर पर मनाया जाता है। भक्त इस दिन ना सिर्ग गंगा में डुबकी लगाकर अपने आत्मा की शुद्धि के लिए कामना करते हैं वल्कि विभिन्न स्वरूपों में गंगा मां की पूजा भी करते हैं।


गंगा दशहरा के शुभ दिन पर आप भी एस्ट्रोस्पीक के माध्यम से गंगा आरती, नवग्रह पूजा और दीप दान करवा सकते हैं ताकि आपकी आत्मा के लिए मोक्ष का द्वार खुल जाए।


पूजा में क्या है शामिल

नवग्रह पूजा

गंगा आरती

दीप दान

गंगा घाट पर प्रसाद का चढ़ावा

मान्यता अनुसार देवी गंगा की पूजा करने से ना सिर्फ वर्तमान जीवन के बल्कि भक्त के जन्मों जन्म के पापों का नाश होता है और उसके पूर्वजों के आत्मा को भी शांति मिलती है।

 

इसके अलावा नवग्रह पूजा, गंगा आरती और दीप दान के अन्य लाभ इस प्रकार हैं:

  

यह पूजा आपके मस्तिष्क और आत्मा का शुद्धिकरण करती है।

यह पूजा आपके जीवन में खुशहाली और समृद्धि लाती है।

समस्त पापों का नाश करती है।

आत्मा के लिए मोक्ष का द्वार खुलता है।

हमारे प्रतिनिधि द्वारा आपके निमित्त गंगा दशहरा के दिन (24 मई, 2018) हर की पौड़ी पर स्थित गंगा मंदिर में प्रसाद अर्पित किया जाएगा।

प्रशिक्षित पंडितों द्वारा शास्त्रीय नियमों का पूर्ण रूप से पालन करने के बाद यह पूजा संपन्न की जाएगी 

 

6018 85
मूल्य ` 6018 | $ 85 टैक्स सहित सेवा सक्रिय नहीं है
sold19 लोगों ने इसे खरीदा

समान पूजाएं

आपको शायद दिलचस्पी हो

अजय भांबी द्वारा विवाह संबंधी विवरण
किसी भी व्यक्ति के जीवन में विवाह बहुत अहम स्थान रखता है। एक सही इंसान को अपना जीवनसाथी बनाकर आप......  और पढ़ें »
हनी चोपड़ा द्वारा विवाह संबंधी विवरण
वैयक्तिक जीवन में विवाह एक बहुत महत्वपूर्ण पड़ाव होता है। यह विवाह से जुड़ा संपूर्ण विवरण होगा,......  और पढ़ें »