language
Hindi

कन्या प्रेम राशिफल

एक वाक्य में कन्या राशि वाले - मेहनती, प्रबंधित, बौद्धिक, समझदार, व्यवहारिक और आलोचक

जन्मजात इच्छा - सूक्ष्म परिवर्तन

कन्या राशि वालों के लिए प्रेम एक जरूरत है, ये हर समय अपने साथी से इस बात का आश्वासन चाहते हैं कि वो उनसे प्रेम करते हैं। ये बहुत धैर्यवान लोग होते हैं जो अपने साथी के प्रति बहुत लगाव रखते हैं। ये ऐसे संबंधों को स्वीकार करते हैं जिनमें इन्हें गंभीरता और स्थिरता नजर आए। अपनी जरूरत के अनुसार ये अपने पार्टनर का चयन करते हैं। ये बहुत समर्पित और ईमानदार प्रेमी होते हैं।
हमारे विशेषज्ञों के पास जीवन की हर समस्या का समाधान मौजूद है। आप अपना सवाल कर हमारे प्रतिष्ठित ज्योतिषाचार्यों से उपाय प्राप्त कर सकते हैं।

कन्या राशि - प्रेम एवं संबंध

इस राशि के अंतर्गत जन्में लो शारीरिक संबंधों को लेकर काफी सक्रिय रहते हैं। इन्हें संबंधों में गंभीरता की तलाश रहती है। हां, कभी-कभी ये फ्लर्ट करने से भी नहीं चूकते लेकिन वह सिर्फ अपने मनोरंजन के लिए। ये बहुत दयालु और कोमल हृदय के होते हैं और दूसरों से भी ऐसे ही व्यवहार की अपेक्षा रखते हैं। स्वभाव से आलोचक होने की वजह से ये अपने पार्टनर से हमेशा पर्फेक्शन की ही उम्मीद करते हैं। प्रेम संबंधों में थोड़े शर्मीले रहने वाले ये लोग हर वो काम करते हैं जिससे इनके पार्टनर को खुशी मिलती है। अपने लिए पार्टनर चुनते समय ये भावनाओं या रोमांस की जगह बुद्धिमता को तरजीह देते हैं।
कन्या राशि वाले माता-पिता के रूप में
कन्या राशि के अभिभावक अपने बच्चों का अत्याधिक ध्यान रखते हैं और उनके भविष्य को लेकर बहुत जागरुक रहते हैं। ये अपने बच्चों के साथ-साथ बहुत मेहनत भी करते हैं। बच्चों की पढ़ाई के साथ-साथ अन्य क्षेत्रों में भी रुचि विकसित करते हैं और यह पूरी कोशिश करते हैं कि उनका बच्चा अव्वल स्थान प्राप्त करे।
कन्या राशि वाले बच्चे
कन्या राशि के बच्चे अपने जीवन में काफी प्रबंधित होते हैं, इन्हें ये बात अच्छे से पता है कि किस चीज को कहां रखना है। इन्हें साफ-सफाई से बहुत प्रेम होता है, ये खुद सीखते हैं और खुद ही करते हैं।
कन्या के साथ संबंध रखने वाले विविध राशि
कन्या और मेष का रिश्ता
अगर इनका संबंध सिर्फ दोस्ती तक रहता है तो ठीक है लेकिन अगर थोड़ा संजीदा होने जा रहे हैं तो संभल जाइए। कन्या राशि का प्रतिनिधित्व बुध द्वारा होता है, जो मेष राशि के मंगल के साथ ज्यादा मेल नहीं खाता। कन्या राशि के जातक विश्लेषक और तार्किक हैं वहीं मेष राशि के जातकों में धैर्य की बहुत कमी होती है। प्रेम से ज्यादा इनका ध्यान बहस करने में रहता है और ज्यादातर समय ये एकदूसरे से उलझते ही रहते हैं।
कन्या और वृषभ का रिश्ता
कन्या और वृषभ दोनों का संबंध ही भूमि तत्व से है, इसके साथ-साथ दोनों के बीच बहुत कुछ कॉमन भी है। दोनों ही पैसे को महत्व देते हैं और इसे कमाने के लिए बहुत मेहनत भी करते हैं। दोनों ही सुरक्षा और भौतिक सफलता की मांग करते हैं। कन्या राशि के जातक हर चीज में कमी ढूंढ़ लेते हैं, अगर अपनी इस कमी पर नियंत्रण हासिल कर लें तो निश्चित तौर पर कन्या और वृषभ अच्छे दोस्त और प्रेमी साबित हो सकते हैं।
कन्या और मिथुन का रिश्ता
इन दोनों का रिश्ता काफी बेहतर साबित हो सकता है क्योंकि दोनों ही बौद्धिक विचार रखते हैं और एक दूसरे का सम्मान करते हैं। अगर किसी कारणवश दोनों के बीच कोई समस्या आ भी गई तो बातचीत के जरिए उसे सुलझा लिया जाता है। मिथुन राशि के जातकों को अपनी स्वतंत्रता से बहुत प्रेम होता है, वहीं कन्या राशि के लोग शोषण करना ज्याद बेहतर समझते हैं। दोनों को ही अच्छे कपड़े, महंगे गैजेट्स की पसंदगी, कन्या और मिथुन राशि के जातकों को एक दूसरे के लिए योग्य बनाते हैं।
कन्या और कर्क का रिश्ता
अगर संवाद जैसी समस्याओं को हटाकर एक दूसरे का समर्थन करते हुए चलें तो ये बहुत अच्छा और आदर्श मेल साबित हो सकते हैं। कर्क राशि के साथ वृश्चिक राशि के जातक बहुत सुरक्षित महसूस करते हैं। दोनों को ही घर पर रहना और धन संबंधित चीजें पसंद हैं। कन्या राशि के जातकों को कर्क साथी का समर्पण और उसकी ईमानदारी बहुत आकर्षित करती है।
कन्या और सिंह का रिश्ता
It's only one relationship that depends on the type of relationship it is. Virgo is conservative and nit-picker;Leo is extrovert and spendthrift. Virgo is unable to understand Leo but Leo is impressed by Virgo's intellectualism. To win's Vigoan's heart Leo needs lot of patience. Leo appreciates Virgo's cleverness and alertness and he also needs appreciation and flattery from his partner. Leo is the leader in the business and Virgo takes second place.The differences between this couple is much which should be sorted out to make the relationship better.
कन्या और कन्या का रिश्ता
कन्या राशि के साथ कन्या राशि के जातकों की जोड़ी बहुत जमती है। दोनों ही बहुत जिम्मेदार माने जाते हैं, इधर-उधर की छोटी-मोटी बातें इन दोनों के लिए ही मायने नहीं रखतीं। बुध के प्रतिनिधित्व के कारण आप दोनों का दिमाग बहुत तेज चलता है, खासकर अपने कार्यक्षेत्र में। कभी-कभार यही बात इन दोनों के लिए परेशानी पैदा कर सकती है।
कन्या और तुला का रिश्ता
तुला राशि के जातक नेतृत्व क्षमता के धनी होते हैं, इस वजह से ये कन्या राशि के साथी उनकी आलोचना करते हैं, ऐसी स्थिति में तुला राशि के जातक को लग सकता है कि शायद उनका साथी उनसे प्रेम नहीं करता। तुला राशि के जातक आलोचनाओं से सख्त नफरत करते हैं और कन्या राशि के जातकों को इसमें महारथ हासिल है। अगर इनकी जोड़ी बनती है तो केवल कन्या राशि के जातकों की वजह से ही यह स्थायी रह सकती है।
कन्या और वृश्चिक का रिश्ता
जितना दिखता है इन दोनों का प्रेम उससे भी कहीं ज्यादा गंभीर है। कन्या राशि के जातक अपने वृश्चिक राशि के साथी से इसलिए संतुष्ट रहते हैं क्योंकि वो उन्हें अपना प्यार और भावनाएं दर्शाते रहते हैं। कन्या राशि के जातक तार्किक होते हैं वहीं वृश्चिक राशि के लोगों को कल्पनाशील माना जाता है। ये दुनिया के सबसे बेस्ट कपल साबित हो सकते हैं लेकिन सिर्फ तभी जब कन्या राशि के साथी अपने वृश्चिक राशि के साथी के अहम को अगर तोड़ना बंद कर दें। इसके अलावा ये बहुत अच्छे बिजनेस पार्टनर और दोस्त तो बन ही सकते हैं।
कन्या और धनु का रिश्ता
भविष्य को लेकर धनु राशि के जातकों के पास कोई योजना नहीं होती, जबकि कन्या राशि के जातक हमेशा भविष्य की ही सोचते हैं। कन्या राशि के जातक बहुत सिंपल, रहस्यमय होते हैं, धनु राशि के पुरुष जातक कन्या राशि की स्त्रियों के प्रति आकर्षण रखते हैं। उन्हें उनकी साफ-सफाई जैसी पसंदगी अच्छी लगती है, लेकिन जब उनकी शादी हो जाती है तो ये उनके लिए बाध्यता बन जाती है। इन दोनों का स्वभाव एक दूसरे से पूरी तरह भिन्न होता है, जो कभी अच्छा रहता है तो कभी-कभार परेशानी भी बन जाता है।
कन्या और मकर का रिश्ता
दोनों राशियों के लोग मेहनती, अनुशासित, परंपरागत और संवेदनशील होते हैं, दोनों को ही अपनी तारीफ सुनना पसंद है और चाहते हैं कि उनका साथी उनका सम्मान करे। दोनों लोग अपने आसपास के वातावरण को लेकर बहुत सचेत रहते हैं। अगर ये लोग अपने रोमांस को जारी रखें तो ये एक अच्छी जोड़ी बन सकती है।
कन्या और कुंभ का रिश्ता
कुंभ राशि के जातक जोखिम उठाकर जीवन जीते हैं, वहीं कन्या राशि के लोग बहुत मेहनती और महत्वकांक्षी माने जाते हैं। कुंभ राशि के जातकों के लिए ये बात बहुत मायने रखती है कि दूसरे लोग इनके बारे में क्या सोचते हैं, जबकि कन्या राशि के जातकों के लिए उनकी उपलब्धियां बहुत जरूरी हैं। ये अच्छे दोस्त तो नहीं बन सकते हैं लेकिन अगर विवाह कर लें तो अच्छे साथी बन सकते हैं। वो भी सिर्फ तब जब ये एक ही क्षेत्र में काम करते हों या कॉलेज के दोस्त रहे हों।
कन्या और मीन का रिश्ता
मीन राशि के जातक बहुत रहस्यमय प्रकृत्ति के होते हैं, ये अपनी भावनाओं को बहने नहीं देते जिसकी वजह से कन्या राशि के जातक सुरक्षा का अभाव महसूस करने लगते हैं। अगर कन्या और मीन राशि के जातकों की जोड़ी बनती है तो मीन के अत्याधिक मूडी होने की वजह से कन्या राशि के जातकों को ही अपने धैर्य की सीमा को बढ़ाना होगा। एक दूसरे से पूरी तरह जुदा होने की वजह से ये अच्छे और बुरे, दोनों ही हालातों का सामना करते हैं।