language
Hindi

तुला प्रेम राशिफल

एक वाक्य में तुला राशि वाले - आकर्षक, कूटनीतिज्ञ, आक्रामक, चालाक

जन्मजात इच्छा - सभी से मिलकर रहना

सच्चे प्रेम को हासिल कर लेना, तुला राशि वालों के लिए एक बड़ा काम होता है। इनका स्तर थोड़ा ऊपर है इसलिए इनके दिल में अपनी जगह बना पाना बहुत मुश्किल है। लेकिन ये अपने प्रेम संबंधों में पूरी तरह समर्पित रहते हैं, अपने संबंधों में संतुलन, शांति बनाए रखने के लिए ये बहुत मेहनत करते हैं। तुला राशि के जातक अकेले नहीं रह सकते, उन्हें हमेशा अपने आसपास लोगों की जरूरत होती है। इनके साथी को बहुत धैर्य रखने की जरूरत होती है क्योंकि इनकी अपेक्षाएं बहुत ज्यादा हैं। ये बहुत आकर्षक होते हैं और साथ ही साथ यह भी चाहते हैं कि उन्हें हर चीज में परफेक्शन मिले। ये एक बहुत समर्पित प्रेमी साबित होते हैं जो हर वो चीज करते हैं जिसे इनके साथी को खुशी मिले।
हमारे विशेषज्ञों के पास जीवन की हर समस्या का समाधान मौजूद है। आप अपना सवाल कर हमारे प्रतिष्ठित ज्योतिषाचार्यों से उपाय प्राप्त कर सकते हैं।

तुला राशि - प्रेम एवं संबंध

तुला राशि के जातक विपरीत लिंग के लोगों को आकर्षित करने की क्षमता रखते हैं। फ्लर्ट करना इनके स्वभाव में शामिल है। अगर इनका पार्टनर धैर्य बनाए रखे, इनके साथ अच्छे से पेश आए और इन्हें भरपूर प्रेम दे तो ये अपने संबंध को स्थायी रखने की हर कोशिश करते हैं। अपने विवाह को सजीव रखने के लिए ये कुछ ना कुछ रोमांटिक करते ही रहते हैं, इन्हें बहस करना बिल्कुल नहीं पसंद। तुला राशि के जातक परिस्थितियों के अनुसार ढल जाते हैं। ये किसी को बड़ी आसानी से मांफ भे कर देते हैं और फिर उसे भूल भी जाते हैं।
तुला राशि वाले माता-पिता के रूप में
तुला राशि के जातक अपने बच्चों के साथ अच्छा समय बिताने की कोशिश करते हैं। ये अपने बच्चों के साथ दोस्ताना संबंध रखते हैं, हर समय उन्हें डांटते रहना इनकी आदत नहीं होती। ये अपने बच्चों को आगे बढ़ने और अपने जीवन में कुछ बड़ा हासिल करने के लिए हमेशा प्रेरित करते रहते हैं।
तुला राशि वाले बच्चे
तुला राशि के जातक जल्दी से सब समझ जाते हैं, इन्हें चीजें आसानी से याद भी हो जाती हैं। जीवन में आगे बढ़ने के लिए इन्हें प्रेम और सहारे की आवश्यकता होती है। इन्हें इनका सामाजिक वातावरण बहुत प्रभावित करता है।
तुला के साथ संबंध रखने वाले विविध राशि
तुला और मेष का रिश्ता
ये एक अच्छी जोड़ी मानी जाएगी, क्योंकि ये बहुत ही जल्दी एक दूसरे के प्रति आकर्षित हो जाते हैं। तुला राशि के जातक अत्याधिक रोमांटिक, आकर्षक, आदर्श और बहुत ही जल्द दूसरों के प्रभाव में आने वाले होते हैं। वहीं मेष राशि के जातक ऊर्जावान, आत्मविश्वासी, साहसी और स्वार्थी होते हैं। तुला राशि के जातक शांत होते हैं वहीं मेष राशि के जातक हमेशा उत्साही।
तुला और वृषभ का रिश्ता
ये दोनों इसलिए साथ रह सकते हैं क्योंकि इन दोनों ही राशियों के जातकों के भीतर धन-दौलत और भौतिक वस्तुओं के प्रति गहरी इच्छा होती है। दोनों ही संगीत से प्रेम और अच्छी चीजों की सराहना करती हैं। हालांकि तुला राशि के जातक बहुत ही जल्द अपने वृषभ राशि के जातकों पर धैर्य खो देते हैं लेकिन फिर बहुत जल्दी एक दूसरे को मना भी लेते हैं।
तुला और मिथुन का रिश्ता
इन दोनों राशियों का संबंध आदर्श माना जाएगा। दोनों ही प्रेम में जीने वाले, संवाद क्षमता के धनी और बौद्धिक माने जाते हैं। इन दोनों के बीच बहुत से विचार-विमर्श होते हैं, दोनों ही एक दूसरे के साथ को बहुत पसंद करते हैं। इनका संबंध गंभीर से ज्यादा रोमांटिक होता है।
तुला और कर्क का रिश्ता
वायु और जल तत्व बहुत लंबे समय तक एक दूसरे का साथ नहीं निभा पाते। तुला राशि के जातक बहुत भावुक नहीं होते और कर्क राशि के जातक सिर्फ भावनाओं पर ही चलते हैं। तुला राशि के जातक निर्णय नहीं ले पाते और ना ही उन्हें किसी प्रकार का शोर-शराबा पसंद है। कर्क राशि के जातक बहुत मूडी होते हैं और उनका जीवन भावनाओं पर ही चलता है। कर्क राशि के जातकों को घर पर रहना पसंद है और तुला के जातक एक ही जगह नहीं बैठे रह सकते।
तुला और सिंह का रिश्ता
इन दोनों राशियों के जातक अच्छे साथी साबित होते हैं, दोनों को ही लग्जरी लाइफ, धन-दौलत, पार्टी पर जाना, भौतिक चीजों पर पैसे खर्च करना बहुत पसंद होता है। सिंह राशि के जातक खुले विचारों वाले और विश्वसनीय होते हैं। दोनों ही अपने प्रेम संबंध में रोमांस भरने की भरपूर कोशिश करते हैं।
तुला और कन्या का रिश्ता
तुला के लिए यह सर्वश्रेष्ठ साथी हो सकते हैं, लेकिन इनका प्रेम संबंध बहुत कम समय के लिए ही होता है। दोनों एक दूसरे के साथ बहुत “स्पेशल” महसूस करते हैं। कन्या राशि के जातक प्रेम को लेकर बहुत गंभीर होते हैं, लेकिन बहुत भावुक होकर कुछ भी नहीं करते। तुला राशि के जातक, अपने साथी की इस आदत को स्वीकार कर लेते हैं।
तुला और तुला का रिश्ता
तुला राशि के लोग अपनी सम राशि के जातकों के प्रति बहुत जल्दी आकर्षित हो जाते हैं, ये बहुत ही आसानी के साथ हालातों के अनुसार चल पड़ते हैं। अपने संबंध को लंबे समय तक स्थिर रखने के लिए ये हर समस्या पर बात करने के लिए तैयार रहते हैं। संबंध में दोनों ही संतुलित रहते हैं जिसकी वजह से कोई भी दूसरे को दबाने का प्रयास नहीं करता।
तुला और वृश्चिक का रिश्ता
जल और वायु तत्व के बीच का यह रिश्ता सिर्फ सभी चल सकता है जब हालात उनके अनुरूप रहें। विपरीत स्थिति में इनका रिश्ता कभी सफल नहीं हो पाता। तुला राशि के जातकों का रोमांटिक स्वभाव वृश्चिक राशि के जातकों को बहुत पसंद आता है। तुला राशि के जातक अपने प्रेम संबंध में आने वाली परेशानियों को हल करने की कोशिश करते हैं लेकिन वृश्चिक राशि के जातक इस मामले में कमजोर पड़ जाते हैं।
तुला और धनु का रिश्ता
इन दोनों का रिश्ता बहुत मजेदार होता है, दोनों ही अत्याधिक रोमांटिक हैं और साथ ही अपने जीवन में अच्छी चीजों के आगमन की राह देखते हैं। हर बात में गंभीरता दर्शाना या हमेशा गंभीर ही रहना, दोनों को ही ये पसंद नहीं है।
तुला और मकर का रिश्ता
इन दोन राशियों के लोगों का संबंध या तो अत्याधिक सफल होता है या कुछ कदम चलते ही फेल हो जाता है। मकर राशि के जातक बहुत मेहनती होते हैं, उन्हें तुला राशि के जातकों का ढीला और आलसी स्वभाव बिल्कुल नहीं पसंद आता। ये संबंध तभी सफल हो सकता है जबकि दोनों एक दूसरे को अच्छी तरह से समझकर अपना लें।
तुला और कुंभ का रिश्ता
जब तुला और कुंभ राशि के जातकों का मेल होता है, तब अजीब सी चमक दिखाई देती है। दोनों ही अपनी जिन्दगी से बहुत प्रेम करते हैं और उसके हर क्षण को भरपूर जीना चाहते हैं। परेशानी सिर्फ तब आती है जब तुला राशि के जातक कुंभ राशि के जातक को अपने अनुसार चलाने का प्रयत्न करता है।
तुला और मीन का रिश्ता
इन दो राशियों के जातक पूरी तरह एक दूसरे जैसे ही हैं, इसलिए अगर ये कहा जाए कि इनका कपल बहुत बेहतरीन होता है, तो बिल्कुल गलत नहीं होगा। मीन राशि के जातक कुछ हद तक अपने चलाने वाले होते हैं, अगर वो अपने तुला राशि के जातक से वाकई प्रेम करते हैं, उनका ध्यान रखते हैं, उनकी जरूरतों को पूरा करते हैं तो उनका संबंध अच्छा चलता है।